Posts

Showing posts from January, 2019
आपस में पड़ोसी मिठाई बाटतें रहें ऐसे..
नफ़रत और लड़ाई से हमेशा दूर रहें ऐसे!

- मनोज 'मानस रूमानी'
आसमाँ का चाँद वहाँ
इस ग्रहण में हैं लाल!
हमारे हसीन चाँद का
हमेशा गुलाबी हैं नूऱ!


- मनोज 'मानस रूमानी'
रूठना फ़ितरत होती हैं हुस्नवालों की..
तो मनाना चाहत प्यार करनेवालों की!


- मनोज 'मानस रूमानी'
हो..तमन्ना पूर्ति का
उम्मीद, उमंग से भरा
प्यार-भाईचारे से खिला
मुबारक यह साल नया!


- मनोज 'मानस रूमानी'