Posts

Showing posts from 2019
'चौकीदार' यह तो भ्रष्ट अमीरों के.. 
अब पहरेदारी करेंगे 'हाथ' जनता के! 

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
ROMANTIC SPRING!
"Spring is arriving..
with beauty in nature!
And bird is waiting..
to welcome his love!"


- Manoj 'manas roomani'
Image
पळस प्रीतिचा!
शिशिर सरता पळस फुले
प्रेम ऋतुची चाहुल लागे.. 
मन प्रीत भावनेत झुले..
हृदय सखीस साद घाले.!



- मनोज 'मानस रुमानी'
आफ़ताब, चाँद हमें दिखें न दिखें
आपका दीदार-ए-हुस्न होता रहे !


- मनोज 'मानस रूमानी'
शबाब आपका ऐसा ही बरकरार रहे
तबस्सुम उसपर खिलखिलाती रहे


- मनोज 'मानस रूमानी'
दीदार-ए-यार कुछ ऐसे हुआ..
नूऱ-ए-हुस्न ने कमाल किया!

- मनोज 'मानस रूमानी'
कुछ दिन मन को नहीं सुकून 
नूरानी चेहरे से मिले तस्कीन!

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
Dear Pigeon of love..!
Oh dear Pigeon,
Fly and come here
To vanish anger and hate
Here and there!

Oh dear Pigeon,
Convey message of peace
To all crazy people
Here and there!
Oh dear Pigeon,
Spread lot of love..
To all struggling people
Here, there and everywhere!

Oh dear Pigeon,
Fly with your friend, love
Let entire world observe
The way you live!!

- Manoj 'Manas Roomani'.
बडे दिल, प्यार से बात सुलझती हैं
अहंकार, ग़ुस्से से बात बिगड़ती हैं

- मनोज 'मानस रूमानी'

रूख़ अमन का किया हैं उन्होंने 
उम्मीद हैं मुस्तक़बिल अच्छा हो 

- मनोज 'मानस रूमानी'
जंग विश्व में कोई न छेड़े..
पैग़ाम-ए-प्यार फैलातें रहें! - मनोज 'मानस रूमानी'
Image
गुज़ारिश! 

गोलियों के धमाके ना हो..  रबाब की मधुर धुनें सुनाई दे
पत्थरों की बौछार ना हो.. वादियों में ग़ुल फिर खिलनें दे 
दहशत का माहौल ना हो..  नज़ारा दिलक़श फिर दिखाई दे
नफ़रतों की आँधियाँ दूर हो..  हब्बा ख़ातून के गीत सुनाई दे - मनोज 'मानस रूमानी'
'वैलेंटाइन डे' पर..दिल चाहे
नफरत मिटे, भाईचारा जागे
प्यार फैले..सारे जहाँ में..!

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
प्यार के अल्फ़ाज़ जहां रूकतें हैं

वहां सिर्फ होठों से होठ मिलतें हैं!

- मनोज 'मानस रूमानी'
एक हो जातीं हैं दो दिलों की धड़कनें
जब गले मिलतें हैं प्यार करनेवालें!

- मनोज 'मानस रूमानी'
करे वादा हुस्न और इश्क़
'होंगे कभी जुदा ना हम'!

- मनोज 'मानस रूमानी'
नहीं रिझाया जाता उन्हें 
किसी चीज़ से इश्क़ में! 
दीदार जरुरी है उनका 
जिसे वह चाहते हैं!

- मनोज 'मानस रूमानी'
मोहब्बत में मिठास तब आती हैं 
जब हुस्न इश्क़ के आगोश में हैं!

- मनोज 'मानस रूमानी'
जहान ख़ूबसूरत रंगीन होता हैं..
जब हुस्न इश्क़ को अपनाता हैं!


- मनोज 'मानस रूमानी'

[वैलेंटाइन्स..प्रोपोज़ डे मुबारक़!]
Image
वैलेंटाइन्स..रोज़ डे पर लिखा..

उसे कौनसा नज़र करे ग़ुलाब?
ज़ीनत है वह गुलशन-ए-हुस्न!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
वैलेंटाइन्स दिनों में रोज मेरी ऐसी रूमानी शायरी यहाँ आएगी.. "या हबीबी..
तुम ही हो जहाँ-ए-इश्क़
सुकून-ए-दिल और हयाती!"

 - मनोज 'मानस रूमानी
शबाब आप पर हमेशा मेहरबान रहें 
हमारी रूमानी शायरी बरक़रार रहें!     


- मनोज 'मानस रूमानी'
आपस में पड़ोसी मिठाई बाटतें रहें ऐसे..
नफ़रत और लड़ाई से हमेशा दूर रहें ऐसे!

- मनोज 'मानस रूमानी'
आसमाँ का चाँद वहाँ
इस ग्रहण में हैं लाल!
हमारे हसीन चाँद का
हमेशा गुलाबी हैं नूऱ!


- मनोज 'मानस रूमानी'
रूठना फ़ितरत होती हैं हुस्नवालों की..
तो मनाना चाहत प्यार करनेवालों की!


- मनोज 'मानस रूमानी'
हो..तमन्ना पूर्ति का
उम्मीद, उमंग से भरा
प्यार-भाईचारे से खिला
मुबारक यह साल नया!


- मनोज 'मानस रूमानी'