Posts

Showing posts from 2018
रईसों का 'कमल' मुरझाने लगा.. 
मुफ़लिसों को 'हाथ' मिलने लगा! 

- मनोज 'मानस रूमानी'
क़ौमी एकता हैं इस मुल्क़ की शान..
कोई न करे किसीकी बेवतन की बात!

- मनोज 'मानस रूमानी'
इनायत उस बहार-ए-हुस्न की हैं..🌷
जो हम से रूमानी शायरी होती हैं!✍️


- मनोज 'मानस रूमानी'
प्यार झलकती उनकी आँखें ख़ूबसूरत
भुला देती हैं यह दुनियाँ संगदिल!


- मनोज 'मानस रूमानी'
मुस्तक़बिल उनसे हैं हमारा..
मुंतज़िर हूँ जिनके दीदार का!


- मनोज 'मानस रूमानी'
तसव्वुर-ए-हुस्नपरी उनके आगे नहीं
किसी और की चाहत..मुमकिन नहीं!

- मनोज 'मानस रूमानी'
खुली राह मिला दे मुल्कों को
जो दरअसल कभी एक ही थे!

- मनोज 'मानस रूमानी'
मुश्ताक़ है उनके दीदार-ए-हुस्न के लिए..
रूमानी दिल को जिससे सुकून मिलता हैं!
- मनोज 'मानस रूमानी'
हुस्नपरी खिलखिलाती रहे 💃
दुनियाँ रूमानी आबाद रहें 💗

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
आशिक़ाना मौसम का लुत्फ़ उठाने 
साथ हुस्न-ए-जहाँ-ताब चाहीये!



- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
मेरी शायरी वैसे ज़माने से वाबस्ता होती हैं..
सिर्फ़ इसमें रूमानी बातें हुस्नपरी की होती हैं!



- मनोज 'मानस रूमानी'
मुल्क का रहनुमा बनकर 
जहां आम दुनिया घूमें.. 
यह सालों से संभाली.. 
ज़म्हूरियत किसकी देन हैं? 

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
इंसानियत, प्यार और तरक्की का आसमान दिखाया चाचा नेहरूजी ने..
बच्चों चलों उनकी राह पर चलें और हमारे भारत को वाकई महान बनाये!

- मनोज 'मानस रूमानी'

(हमारे भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू जी को जनमदिन पर सलाम!)
गुलाबी ठंड की आहट क्या हुई 🌹
रूमानी अरमानों ने ली अंगड़ाई! 💗


- मनोज 'मानस रूमानी'
जिनके हम हमसफ़र हो न सके..
उनसे प्यार की उम्मीद क्यों करे!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
सबरंगी गुब्बारें यें हमारी संस्कृति के..
सबको लिएं साथ उड़ें हसीन दुनिया में!

- मनोज 'मानस रूमानी'
मौंसम आशिक़ाना हो
दिल शायराना हो.✍️
शबाब लुभावना हो
और हम फ़ना हो💞


- मनोज 'मानस रूमानी'
हुस्न आँखों की पसंद होती हैं
चाहत दिल की होती हैं
शरीफ़ ख़ामख़ाह बदगुमान होता है


- मनोज 'मानस रूमानी'
गए अक्टूबर का तपता सूरज बनाया फेसबुक ने वहाँ..
हमें तो जुस्तजू थी पूनम के हसीं शीतल चाँद की वहाँ!


- मनोज 'मानस रूमानी'
बाघों का हैं बस मोल यहाँ..
इंसानों की जान कुछ भी नहीं!
धर्म, भावनाओं से हैं खेल यहाँ..
इंसानियत-प्यार कहीं भी नहीं!



- मनोज 'मानस रूमानी'
इंसानियत-प्यार के हो मंदिर-मस्जिद
मनातें रहें साथ में जहाँ दिवाली-ईद!

- मनोज 'मानस रूमानी'
अभिजात सौंदर्य की 'परि'सीमा है वह
'मलिका-ए-हुस्न' की हक़दार है वह!😊

- मनोज 'मानस रूमानी'
जीने की आरज़ू जगाता नूऱ..💗
हैं आपका हसीन नूरानी रूख़!


- मनोज 'मानस रूमानी'
उड़न खटोलें से केसरियाँ के गोल'माल'
पीसें दिखानेवालें नेता-लोग ईमानदार!


- मनोज 'मानस'

Image
पूनम का रूमानी चाँद हो
साथ हसीन महबूबा हो!


- मनोज 'मानस रुमानी'
Image
कोजागरी का चाँद आज आसमान में..
हमारी महजबीं हमेशा दिलोदिमाग में!

- मनोज 'मानस रुमानी'
कहतें हैं मैच जीते यहाँ
दिल जीती हसीना वहां!

- मनोज 'मानस रूमानी'
मजहबों से नहीं..
सियासतदारों को वोटों से प्यार
केसरियाँ तो खेलेंगे भगवान से..
जितने चुनाव!


- मनोज 'मानस'
Image
आयी बरसात लेकर ठंडी हवा से खुशबू 
रूमानी यादों से हो गएँ जज़्बात बेकाबू! 

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
बहती रहे अमन की हवा ऐसी नसीम
सरहदों के पार जहाँ
से मिला दे दिल!

- मनोज 'मानस रूमानी'
अमन-भाईचारे का था हमारा एक वतन 
बटवारे से मुल्कोंको झगड़ते छोड़े अंग्रेज! 

- मनोज 'मानस'
Image
विश्व शांति दिन की शुभकामनाएं!!

- मनोज कुलकर्णी
Image
वो ज़िन्दगी क्या जिसमें प्यार न किया
हमें तो उम्र के हर पड़ाव पर इश्क़ हुआ!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
हिंदी भाषा प्रसार में (साहित्यकारों के साथ) हिंदी सिनेमा का बड़ा योगदान रहा है!

'हिन्दी दिन' की शुभकामनाएं.!!

- मनोज कुलकर्णी
Image
१४ सितम्बर..'राष्ट्रभाषा हिंदी दिन' की शुभकामनाएं!

इस अवसर पर हिंदी भाषा समृद्ध करनेवालें सभी साहित्यकारों को प्रणाम!!

- मनोज कुलकर्णी
ग़ुल ही ग़ुल खिलें ख्वाब-ओ-ख़यालों में..🌷🌹
आप के दीदार-ए-हुस्न की ख़्वाहिश लिए!😊

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
मुरीद हो गए हुस्नपरी के
जिंदगी नयी हसीं जियेंगे!


- मनोज 'मानस रूमानी'
होता रहें प्यार कभी भी किसीसे
न उम्र और न कोई बंधन माने! 


- मनोज 'मानस रूमानी'
कहीं केसरियाँ तो कहीं लाल..
जनजीवन की क्या करें बात!


- मनोज 'मानस रूमानी'
आसमाँ में सितारें ऐसे ही कई..
हमारे चाँद का कहीं दीदार नहीं!

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
हुस्न आपका खिलखिलाता रहें
शायरी हमारी रूमानी होती रहें!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
नफ़रत लड़ाती हैँ..प्यार मिलाता हैँ..
दुश्मनी मिटानी हैँ..तो प्यार जरुरी हैँ!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
ख्वाहिश यही है ईद पर..
जहाँ में सब रहें सलामत!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
इंसानियत का जज़्बा बढ़ता रहें💗
मोहब्बत के ग़ुल खिलतें रहें.!🌹


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
लहराओं तिरंगा प्यारा..!! 
हमारें भारत के स्वतंत्रता दिन की शुभकामनाएं!
- मनोज कुलकर्णी
गोली नहीं, मिठाई बाटतें रहें दोनों..😊
पैग़ाम-ए-मोहब्बत फैलातें रहें दोनों! 💞


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
ऐसी हसीन कोई बेवज़ह रूठे..
तो ग़ुलाब भी उसे कैसे मनाये!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
ख़ूबसूरत वह चेहरा नूरानी
हसीन उसी से हैं ज़िंदगी!

- मनोज 'मानस रूमानी'
दिलोदिमाग पर इस कदर छाए हैं वह 
सृजन का ख़ूबसूरत पहलू हुए हैं वह!

- मनोज 'मानस रूमानी'
शायद तुम्हारे हुस्न का नूऱ हैं..💫
जिससे हो गए ये पत्तें सुनहरें! 🌼
- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
कितने रंगों में घुल गई ज़िन्दगी..
बस इश्क़ के ग़ुलाबी रंग में खिली!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
आती रहीं ज़िन्दगी में कई लहरें...
बस एक हसीन आरज़ू से तैरते रहे!


- मनोज 'मानस रूमानी'
दोस्ती न देखे मज़हब,
प्यार न देखें मज़हब..
रहें ऐसे सब साथ हम..
सबको दोस्ती मुबाऱक!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
इन्सानियत और प्यार हमारा मज़हब
सब एक..रहें साथ..हो दोस्ती मुबारक़!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
सलामत रहें जज़्बात-ए-प्यार👨‍❤️‍👨
और खिलतें रहें रूमानी दिल!👩‍❤️‍👨


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
आसमाँ का चाँद ग्रहण से छुप जाये
लेकिन हमारे चाँद को ग्रहण न लगे!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
आदाब अर्ज़ है..मेरे दोस्तों और चाहनेवालों को..
इन्सानियत और प्यार ही मज़हब माननेवालों को!



- मनोज 'मानस रूमानी'

Image
मोरपंख छूने का होता हैं अहसास..
ख़यालों में जब आता हैं चेहरा हसीन


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
"दुनियाँ में मोहब्बत की अनोखी मिसाल हैं यह.. दिल-ओ-जान से प्यारा हमारा ताज़महल हैं यह!"
- मनोज 'मानस रूमानी'
[मेरे सबसे प्यारे ताज़महल की मैंने बहोत साल पहले खुद ली हुई तस्वीर!]

(Take care of our great & most beautiful symbol of love...Tajmahal.)
Image
हसीन हो यह चाँद रात..
शायरी और इश्क़ की बात!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
मुबारक़ हो सबको ईद का चाँद..
रहे सलामत, आबाद, ख़ुशहाल.! 


- मनोज 'मानस रूमानी'
आप 'विश्व क़िताब दिन' मनातें हैं 
मसरूफ़ है हम ज़िन्दगी पढ़ने मे..!

- मनोज 'मानस रूमानी'
कहाँ है वह रुख़-ए-माहताब..
जिसका नज़र आ रहा है नूऱ!

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
खिलें हैं ग़ुलाबी टयुलिप बाग़-ए-कश्मीर..
मुझे लगतें हैं जैसे खिल उठें हसींन दिल!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
ये ख़ूबसूरत नज़ारा
हसीन रंगीन समां
ढूँढता हूँ मै खोया..
रह गया प्यार मेरा!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
"मौसम आशिक़ाना हो..
और दिल शायराना हो!"


- मनोज 'मानस रूमानी'

'वर्ल्ड पोएट्री डे' सभी को मुबारक़!
Image
अच्छें दिन वालें देख रहें बुरें दिन..
बुरें दिन वालें देख रहें अच्छे दिन.!


- मनोज 'मानस रूमानी'
सियासतदारों से बेहद ख़फ़ा हैं दोनों तरफ़
आवाम में आपसी मोहब्बत है दोनों तरफ़!

- मनोज 'मानस रूमानी'
हमारी ज़िन्दगी खुशग़वार करनेवालों (कलाकार जैसों) पर आजकल जो आफतें आ रहीं हैं उसपर मैंने अभी यह लिखा..

ज़िन्दगी, तुम इतनी बेरहम क्यूँ हुई..
तुमसे प्यार करनेवालों को छोड़ चली?


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
आसमाँ से आयी थी...
लौट गयी वहाँ चाँदनी!


- मनोज 'मानस रूमानी'