Posts

Showing posts from 2018
Image
Posting my poem on 'Christmas Eve'..

"OH MY ANGEL.."

My Beautiful Angel,
Brighten the world..
With your pure light!

My Beautiful Angle,
Unite the world..
With your love!

My Beautiful Angel,
Grace the world..
With your Beauty!

My Beautiful Angel,
Stay in my eyes ..
To see life beautiful!

- Manoj 'Manas Roomani'
Image
रूमानी ठंड!

कोहरे में ख़ूबसूरत नज़ारा है
रूमानी धून..अच्छा पेय हैं.!


आग़ोश में हसीन मेहबूबा है
ग़ुलाबी ठंड का लुत्फ़ तब हैं!



- मनोज 'मानस रूमानी'
भगवान की भी जात निकालतें हैं केसरियाँ.!
ये कैसे ख़त्म करेंगे यहाँ की जातिव्यवस्था?

- मनोज 'मानस रूमानी'
तब थी मुमताज़ जहाँ
अब हमारी हुस्नपरी! 

हुस्न-ए-ज़न्नत ऐसा..

होता है मेहरबान कभी !

- मनोज 'मानस रूमानी'
कहीं सरहदें, कहीं जातीं-धर्मों की दीवारें..
इसमें गिरफ़्त..क़ुर्बान होतीं रहीं मोहब्बतें!

- मनोज 'मानस रूमानी'
नूऱ-ए-नफ़ासत उनका
हैं प्यार का फ़लसफ़ा!

- मनोज 'मानस रूमानी'
हुस्न आपका हमेशा जवाँ रहे
प्यार के फ़सानें यूँ बनतें रहें!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
"हक़ के लिए आवाज़ उठाने मिले ताकत
नाइंसाफी ना कर सके ज़माना संगदिल! 

प्यार-भाईचारे से हो सहजीवन सुखद..
मनाएं 'विश्व मानवाधिकार' दिन सब!!"

- मनोज 'मानस रूमानी'
रईसों का 'कमल' मुरझाने लगा.. 
मुफ़लिसों को 'हाथ' मिलने लगा! 

- मनोज 'मानस रूमानी'
क़ौमी एकता हैं इस मुल्क़ की शान..
कोई न करे किसीकी बेवतन की बात!

- मनोज 'मानस रूमानी'
इनायत उस बहार-ए-हुस्न की हैं..🌷
जो हम से रूमानी शायरी होती हैं!✍️


- मनोज 'मानस रूमानी'
प्यार झलकती उनकी आँखें ख़ूबसूरत
भुला देती हैं यह दुनियाँ संगदिल!


- मनोज 'मानस रूमानी'
मुस्तक़बिल उनसे हैं हमारा..
मुंतज़िर हूँ जिनके दीदार का!


- मनोज 'मानस रूमानी'
तसव्वुर-ए-हुस्नपरी उनके आगे नहीं
किसी और की चाहत..मुमकिन नहीं!

- मनोज 'मानस रूमानी'
खुली राह मिला दे मुल्कों को
जो दरअसल कभी एक ही थे!

- मनोज 'मानस रूमानी'
मुश्ताक़ है उनके दीदार-ए-हुस्न के लिए..
रूमानी दिल को जिससे सुकून मिलता हैं!
- मनोज 'मानस रूमानी'
हुस्नपरी खिलखिलाती रहे 💃
दुनियाँ रूमानी आबाद रहें 💗

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
आशिक़ाना मौसम का लुत्फ़ उठाने 
साथ हुस्न-ए-जहाँ-ताब चाहीये!



- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
मेरी शायरी वैसे ज़माने से वाबस्ता होती हैं..
सिर्फ़ इसमें रूमानी बातें हुस्नपरी की होती हैं!



- मनोज 'मानस रूमानी'
मुल्क का रहनुमा बनकर 
जहां आम दुनिया घूमें.. 
यह सालों से संभाली.. 
ज़म्हूरियत किसकी देन हैं? 

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
इंसानियत, प्यार और तरक्की का आसमान दिखाया चाचा नेहरूजी ने..
बच्चों चलों उनकी राह पर चलें और हमारे भारत को वाकई महान बनाये!

- मनोज 'मानस रूमानी'

(हमारे भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू जी को जनमदिन पर सलाम!)
गुलाबी ठंड की आहट क्या हुई 🌹
रूमानी अरमानों ने ली अंगड़ाई! 💗


- मनोज 'मानस रूमानी'
जिनके हम हमसफ़र हो न सके..
उनसे प्यार की उम्मीद क्यों करे!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
सबरंगी गुब्बारें यें हमारी संस्कृति के..
सबको लिएं साथ उड़ें हसीन दुनिया में!

- मनोज 'मानस रूमानी'
मौंसम आशिक़ाना हो
दिल शायराना हो.✍️
शबाब लुभावना हो
और हम फ़ना हो💞


- मनोज 'मानस रूमानी'
हुस्न आँखों की पसंद होती हैं
चाहत दिल की होती हैं
शरीफ़ ख़ामख़ाह बदगुमान होता है


- मनोज 'मानस रूमानी'
गए अक्टूबर का तपता सूरज बनाया फेसबुक ने वहाँ..
हमें तो जुस्तजू थी पूनम के हसीं शीतल चाँद की वहाँ!


- मनोज 'मानस रूमानी'
बाघों का हैं बस मोल यहाँ..
इंसानों की जान कुछ भी नहीं!
धर्म, भावनाओं से हैं खेल यहाँ..
इंसानियत-प्यार कहीं भी नहीं!



- मनोज 'मानस रूमानी'
इंसानियत-प्यार के हो मंदिर-मस्जिद
मनातें रहें साथ में जहाँ दिवाली-ईद!

- मनोज 'मानस रूमानी'
अभिजात सौंदर्य की 'परि'सीमा है वह
'मलिका-ए-हुस्न' की हक़दार है वह!😊

- मनोज 'मानस रूमानी'
जीने की आरज़ू जगाता नूऱ..💗
हैं आपका हसीन नूरानी रूख़!


- मनोज 'मानस रूमानी'
उड़न खटोलें से केसरियाँ के गोल'माल'
पीसें दिखानेवालें नेता-लोग ईमानदार!


- मनोज 'मानस'

Image
पूनम का रूमानी चाँद हो
साथ हसीन महबूबा हो!


- मनोज 'मानस रुमानी'
Image
कोजागरी का चाँद आज आसमान में..
हमारी महजबीं हमेशा दिलोदिमाग में!

- मनोज 'मानस रुमानी'
कहतें हैं मैच जीते यहाँ
दिल जीती हसीना वहां!

- मनोज 'मानस रूमानी'
मजहबों से नहीं..
सियासतदारों को वोटों से प्यार
केसरियाँ तो खेलेंगे भगवान से..
जितने चुनाव!


- मनोज 'मानस'
Image
आयी बरसात लेकर ठंडी हवा से खुशबू 
रूमानी यादों से हो गएँ जज़्बात बेकाबू! 

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
बहती रहे अमन की हवा ऐसी नसीम
सरहदों के पार जहाँ
से मिला दे दिल!

- मनोज 'मानस रूमानी'
अमन-भाईचारे का था हमारा एक वतन 
बटवारे से मुल्कोंको झगड़ते छोड़े अंग्रेज! 

- मनोज 'मानस'
Image
विश्व शांति दिन की शुभकामनाएं!!

- मनोज कुलकर्णी
Image
वो ज़िन्दगी क्या जिसमें प्यार न किया
हमें तो उम्र के हर पड़ाव पर इश्क़ हुआ!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
हिंदी भाषा प्रसार में (साहित्यकारों के साथ) हिंदी सिनेमा का बड़ा योगदान रहा है!

'हिन्दी दिन' की शुभकामनाएं.!!

- मनोज कुलकर्णी
Image
१४ सितम्बर..'राष्ट्रभाषा हिंदी दिन' की शुभकामनाएं!

इस अवसर पर हिंदी भाषा समृद्ध करनेवालें सभी साहित्यकारों को प्रणाम!!

- मनोज कुलकर्णी
ग़ुल ही ग़ुल खिलें ख्वाब-ओ-ख़यालों में..🌷🌹
आप के दीदार-ए-हुस्न की ख़्वाहिश लिए!😊

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
मुरीद हो गए हुस्नपरी के
जिंदगी नयी हसीं जियेंगे!


- मनोज 'मानस रूमानी'
होता रहें प्यार कभी भी किसीसे
न उम्र और न कोई बंधन माने! 


- मनोज 'मानस रूमानी'
कहीं केसरियाँ तो कहीं लाल..
जनजीवन की क्या करें बात!


- मनोज 'मानस रूमानी'
आसमाँ में सितारें ऐसे ही कई..
हमारे चाँद का कहीं दीदार नहीं!

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
हुस्न आपका खिलखिलाता रहें
शायरी हमारी रूमानी होती रहें!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
नफ़रत लड़ाती हैँ..प्यार मिलाता हैँ..
दुश्मनी मिटानी हैँ..तो प्यार जरुरी हैँ!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
ख्वाहिश यही है ईद पर..
जहाँ में सब रहें सलामत!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
इंसानियत का जज़्बा बढ़ता रहें💗
मोहब्बत के ग़ुल खिलतें रहें.!🌹


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
लहराओं तिरंगा प्यारा..!! 
हमारें भारत के स्वतंत्रता दिन की शुभकामनाएं!
- मनोज कुलकर्णी
गोली नहीं, मिठाई बाटतें रहें दोनों..😊
पैग़ाम-ए-मोहब्बत फैलातें रहें दोनों! 💞


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
ऐसी हसीन कोई बेवज़ह रूठे..
तो ग़ुलाब भी उसे कैसे मनाये!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
ख़ूबसूरत वह चेहरा नूरानी
हसीन उसी से हैं ज़िंदगी!

- मनोज 'मानस रूमानी'
दिलोदिमाग पर इस कदर छाए हैं वह 
सृजन का ख़ूबसूरत पहलू हुए हैं वह!

- मनोज 'मानस रूमानी'
शायद तुम्हारे हुस्न का नूऱ हैं..💫
जिससे हो गए ये पत्तें सुनहरें! 🌼
- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
कितने रंगों में घुल गई ज़िन्दगी..
बस इश्क़ के ग़ुलाबी रंग में खिली!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
आती रहीं ज़िन्दगी में कई लहरें...
बस एक हसीन आरज़ू से तैरते रहे!


- मनोज 'मानस रूमानी'
दोस्ती न देखे मज़हब,
प्यार न देखें मज़हब..
रहें ऐसे सब साथ हम..
सबको दोस्ती मुबाऱक!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
इन्सानियत और प्यार हमारा मज़हब
सब एक..रहें साथ..हो दोस्ती मुबारक़!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
सलामत रहें जज़्बात-ए-प्यार👨‍❤️‍👨
और खिलतें रहें रूमानी दिल!👩‍❤️‍👨


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
आसमाँ का चाँद ग्रहण से छुप जाये
लेकिन हमारे चाँद को ग्रहण न लगे!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
आदाब अर्ज़ है..मेरे दोस्तों और चाहनेवालों को..
इन्सानियत और प्यार ही मज़हब माननेवालों को!



- मनोज 'मानस रूमानी'

Image
मोरपंख छूने का होता हैं अहसास..
ख़यालों में जब आता हैं चेहरा हसीन


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
"दुनियाँ में मोहब्बत की अनोखी मिसाल हैं यह.. दिल-ओ-जान से प्यारा हमारा ताज़महल हैं यह!"
- मनोज 'मानस रूमानी'
[मेरे सबसे प्यारे ताज़महल की मैंने बहोत साल पहले खुद ली हुई तस्वीर!]

(Take care of our great & most beautiful symbol of love...Tajmahal.)
Image
हसीन हो यह चाँद रात..
शायरी और इश्क़ की बात!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
मुबारक़ हो सबको ईद का चाँद..
रहे सलामत, आबाद, ख़ुशहाल.! 


- मनोज 'मानस रूमानी'
आप 'विश्व क़िताब दिन' मनातें हैं 
मसरूफ़ है हम ज़िन्दगी पढ़ने मे..!

- मनोज 'मानस रूमानी'
कहाँ है वह रुख़-ए-माहताब..
जिसका नज़र आ रहा है नूऱ!

- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
खिलें हैं ग़ुलाबी टयुलिप बाग़-ए-कश्मीर..
मुझे लगतें हैं जैसे खिल उठें हसींन दिल!


- मनोज 'मानस रूमानी'
Image
ये ख़ूबसूरत नज़ारा
हसीन रंगीन समां
ढूँढता हूँ मै खोया..
रह गया प्यार मेरा!


- मनोज 'मानस रूमानी'